पुलिस की ढिलाई से गयी भुप्पी पांडे की जान
पुलिस की ढिलाई से गयी भुप्पी पांडे की जान

बात आज की नहीं यह मामला पिछले साल से ही गरमाया हुआ था व कई लोगो की शिकायत के बाद भी पुलिस का कार्यवाही ना करना एक परिवार के लिए अभिशाप बन गया| सौरभ, गौरव हल्द्वानी के दो चर्चित नाम रहे हैं जो उत्तराखंड में शिवसेना का प्रतिनिधित्व कई सालो से कर रहे हैं व उनके हल्द्वानी में कई प्रतिष्ठान भी हैं जिनमे से एक सिन्धी चोराहे पर भी हैं जन्हा इन्होने दिन दहाड़े भुप्पी पांडे को गोलियों से भून डाला|

भुप्पी व गौरव बंधुओ की तकरार आज की नहीं हैं व इस विषय में कई बार तू तू मैं मैं हो चुकी हैं इससे पुलिस भी अनजान नहीं थी| सूत्रों की बात माने तो इससे पहले भी भुप्पी पांडे पर जानलेवा हमला भी हो चुका था जिसके विषय में भुप्पी पांडे ने पुलिस से संपर्क भी किया था|

इन्ही गुप्ता बंधुओ पर कई अन्य मुक़दमे गंभीर धाराओं में भी दर्ज हैं लेकिन स्थानीय पुलिस का आशीर्वाद प्राप्त होने के कारण उनपर आजतक कोई कार्यवाही नहीं हुई जिसके कारण आज एक परिवार को अपना इकलोता कमाने वाला खोना पड़ा|

पूर्व में ही फेसबुक पर हो रही टीका टिपण्णी के विषय और गंभीरता को लेकर हमारे प्रतिनिधि ने एसएसपी मीना को भी अवगत करा दिया था की इस मामले पर तुरंत कार्यवाही करे अगर ऐसा नहीं किया गया तो आगे जाकर इसका परिणाम भयंकर हो सकता हैं लेकिन पुलिस ने इस मामले को व हमारे द्वारा दी गयी सूचना को कभी गंभीरता से नहीं लिया जिसका परिणाम आज हम सभी के सामने हैं|

पूर्व में भी गुप्ता बंधुओ द्वारा एक फौजी के साथ मारपीट का किस्सा भी खूब उछला था जिसमे गुप्ता बंधुओ ने उन्हें बन्दूक दिखाकर धमकाया था लेकिन पुलिस की लीपापोती के कारण वो केस भी ठन्डे बस्ते में चला गया जबकि होना तो यह चाहिए था की पुलिस को उनके हथियारों को जब्त कर लाइसेंस ही रद्द कर देना चाहिए था|

इसी हौसले के दम पर हल्‍द्वानी में शिवसेना नेता और उसके भाई ने दिन दहाड़े प्रॉपर्टी डीलर को गोलियों से भून डाला। घटना सिंधी चौराहे की है। बताया जा रहा है कि वे तब तक गोली दागते रहे जब तक पिस्‍टल की सारी गोलियां खत्‍म नहीं हो गईं। मौके पर खड़ी पुलिस भी वारदात के समय उन्‍हें हिरासत में लेने से बचती रही।

प्रॉपर्टी डीलर को जख्‍मी हाल में सुशीला तिवारी अस्‍पताल में लाया गया जहां, चिकित्‍सकों ने मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने आरोपित भाइयों को हिरासत में ले लिया है। वारदत की वजह आपसी लेनदेन बताई जा रही है। इसके पहले भी दोनों भाइयों ने प्रॉपर्टी डीलर की हत्‍या के लिए सुपारी दी थी। वारदात के बाद से चौराहे पर दहशत का माहौल बना रहा।

रविवार दोपहर को गोलियों की तड़तड़ाहट की वहज से हल्‍द्वानी में दहशत फैल गई। सिंधी चौराहे पर सिवसेना नेता गौरव गुप्‍ता और उसके भाई सौरभ गुप्‍ता ने प्रॉपर्टी डीलर की अपने लाइसेंसी पिस्‍टल से गोली मारकर हत्‍या कर दी। वे उसे तब तक गोली मारते रहे जब तक पूरी पिस्‍टल खाली नहीं हो गई।

वारदात के समय मौके पर पहुंची पुलिस तब तक उन्‍हें हिरासत में लेने से कतराती रही जब तक वो गोलियां दागते रहे। इस दौरान घटना स्‍थल पर भगदड़ मच गई। दोनों में लेनदेन को लेकर काफी समय से विवाद चल रहा था। इसके पहले भी दोनों भाइयों ने प्रॉपर्टी डीलर की हत्‍या की सुपारी दी थी। मौके पर एसपी सिटी अमित श्रीवास्‍तव और सीओ डीसी ढौंडियाल समेत भारी मात्रा में पुलिस फोर्स तैनात हो गई है।

बताया जा रहा है कि किसी जमीन को लेकर दोनों पक्षों में लंबे समय से विवाद चल रहा है। रविवार को भूपेन्‍द्र अपने दोस्‍त निदेश के साथ स्‍कूटी से सिंधी चौराहे की ओर आए थे। इसी दौरान उनका सौरव गुप्‍ता और गौरव गुप्‍ता से विवाद हो गया। अचानक से दोनों ने गोलियां चलानी शुरू कर दीं। जिसके बाद घटना स्‍थल पर दहशत का मौल बन गया। राहगीरों में भगदड़ मच गई।

Leave a Reply