तंत्र हुआ नाकाम, नैनीताल में जाम ही जाम

Nainital Jam
Nainital Jam

नैनीताल के लिए यात्रियों की भीड़ ऐसी बढ़़ी कि रोडवेज के इंतजाम पूरी तरह फेल हो गए। रोडवेज प्रबंधन ने कई रूटों से बसों को हटाकर नैनीताल रूट पर भेजा, इसके बाद भी यात्रियों का दबाव कम नहीं हुआ। कई यात्री रोडवेज अधिकारियों के सामने नैनीताल बस भेजने के लिए रोये और गिड़गिड़ाए भी, लेकिन अधिकारी बस नहीं होने के कारण बेबस दिखाई दिए। फिरोजाबाद से यहां तक बस बुक करके आए 200 पर्यटक बस नहीं मिलने के कारण आठ घंटे रोडवेज बस अड्डे पर खड़े रहे। किसी तरह देर शाम को इन्हें बस मिल पाई।

नैनीताल रूट पर शुक्रवार को यात्रियों की संख्या बढ़ गई। हल्द्वानी डिपो ने कई रूट से बसों को हटाकर नैनीताल भेजा। रोडवेज बस अड्डा प्रभारी डीसी जोशी ने बताया कि नैनीताल रूट पर 25 अतिरिक्त बसें भेजी गईं। दिनभर में डिपो की सभी बसों ने नैनीताल के 130 चक्कर लगाए। इसके बाद भी बसों में लोग खड़े होकर गए और कई बसों की छत पर भी पर्यटक चढ़कर गए। नैनीताल रोड पर पर्यटकों की भीड़ को देखते हुए टैक्सी चालकों ने पर्यटकों से मनमानी वसूली की। पर्यटकों ने भी कोई शिकायत नहीं की, लेकिन चालकों ने खूब चांदी काटी।

यात्रियों की संख्या ऐसी बढ़ी कि रोडवेज बस अड्डे पर बैठने के लिए भी स्थान कम पड़ गया। मजबूरन उन्हें फर्श पर ही बैठना पड़ा। फर्श में गंदगी का यह आलम है कि यहां से दुर्गंध आ रही थी। रोडवेज बस अड्डे पर पानी के लिए एक ही वाटर कूलर होने के कारण यहां लंबी कतार लगी रही। पीने का पानी भरने के लिए यात्रियों को वाटर कूलर के सामने आधा-आधा घंटा खड़े रहकर इंतजार करना पड़ा। रोडवेज प्रबंधन ने दूनागिरी, रानीखेत, जौरासी, गंगोलीहाट और बरेली रूट की बसों को हटाकर नैनीताल रूट पर भेजा। इस कारण इन रूटों पर यात्रियों को दिक्कत हुई।

पर्यटकों की भीड़ के चलते नैनीताल रोड पर शुक्रवार को भी कई जगह जाम लगा। पुलिस ने दोपहिया वाहन चालकों की चेकिंग की। कागजात पूरे नहीं होने के कारण काफी संख्या में छात्र और युवकों को घर लौटना पड़ा। हालांकि दोपहर में पुलिस ने यातायात सामान्य होने पर वाहनों का आवागमन फ्री कर दिया था। नैनीताल पर शुक्रवार को भी पर्यटकों के वाहनों का दबाव काफी था। इस कारण कॉलटैक्स, नरीमन तिराहा और रानीबाग में जाम लग गया। नैनीताल मार्ग के ज्योलीकोट और हनुमानगढ़ी के संकरे रास्ते पर जाम के चलते पर्यटकों को काफी परेशानी हुई।

हालांकि कई जगह तैनात पुलिसकर्मियों ने जाम को खोलने के लिए काफी मशक्कत की। नैनीताल में पार्किंग की स्थिति ठीक होने पर दोपहर में वाहनों को फ्री छोड़ दिया था, लेकिन दोपहिया वाहनों की चेकिंग पर सख्ती ज्यादा था। शाम के समय काफी संख्या में वाहन नीचे उतरने से कुछ देर के लिए रानीबाग में जाम लग गया था। यातायात निरीक्षक महेश चंद्रा ने बताया कि पुलिस ने 30 वाहन चालकों का चालान कर करीब दस हजार रुपये जुर्माना वसूल किया है। उन्होंने बताया कि नैनीताल जाने के लिए सिर्फ सुबह में वाहनों का दबाव ज्यादा था।

दो घंटे से नैनीताल जाने के लिए बस का इंतजार कर रहा हूं। जो भी बस आ रही है। उसमें सीटों को लेकर धक्का-मुक्की हो रही है।
-गंगा दत्त भट्ट, निवासी ताकुला नैनीताल

क्या करें दोगांव के लिए भी बस नहीं मिल रही है। टैक्सी वाले दोगांव नहीं ले जा रहे हैं। बस कम हैं। बसों में जगह नहीं है। ऐसे में कैसे जाएं।
लक्ष्मी दत्त, दोगांव

Jeevan Pant